Google+ Badge

शुक्रवार, 5 अप्रैल 2013

कुछ नन्ही कविताएं


                 1.

ढूंढ  कर  लाए  तो
जवाब  कोई !

महका-महका  सा  है  चमन
शायद
छू  गए  वो  खिला  गुलाब  कोई !

              2.

देखो
कितने  शरीर  हैं  बादल

उसने  खोली  कहीं
ज़ुल्फ़ें  अपनी
जा  के  टकरा  गए  वहीं  बादल !

           3.

ख़त  पे  औरों  का  नाम
लिक्खा   है

कितनी  मासूमियत  से
आख़िर  में
उसने  मुझको  सलाम  लिक्खा  है ! 

         4.

अब  भी
कुछ  इंतज़ार  बाक़ी  है ?

महफ़िलें  ख़त्म
उठ  गए  हैं  रिंद
बस  दिल-ए-दाग़दार  बाक़ी  है !

                                                  ( 1975 )

                                            -सुरेश  स्वप्निल 

* प्रकाशन: दैनिक 'नव-भारत', समस्त संस्करण ( रविवासरीय ), 1975


1 टिप्पणी:

jyoti khare ने कहा…

नन्हीं कवितायेँ गहरे तक उतरती कवितायेँ
सुंदर और बहुत खूब
बधाई

आग्रह है मेरे ब्लॉग में भी सम्मिलित हों ख़ुशी होगी