Google+ Badge

शनिवार, 6 अप्रैल 2013

और बस, आकाश हो !

सीने  में
असहनीय  चुभन
सर्दियों  की  हवा-से  पैने
समय  के  चाक़ुओं  की
दर्द; उठ-उठ  वेधता  है  ह्रदय  !

प्राण
तोड़ते  हैं  सीमाएं
तन  की
तन  अवश,  चुपचाप  है
यह  सोचता  है  मन, करें  क्या ?
बोझ  है  जीवन,
बड़ा  अभिशाप  है !

काश ! पतझड़  ही  मिले
मन-सुमन  की  पांखुरियां
मुक्त  हों  निर्जीव  बंधन  से
ह्रदय  हो,
और  बस, आकाश  हो !

                                             ( 1975 )

                                      -सुरेश  स्वप्निल 

* प्रकाशन: दैनिक 'देशबंधु', भोपाल एवं अन्यत्र। पुनः प्रकाशन हेतु उपलब्ध।

कोई टिप्पणी नहीं: