Google+ Badge

बुधवार, 3 अप्रैल 2013

हिंदी रंगमंच दिवस : सोई है सरकार ..

दिन-दिन  दूना  रात  चौगुना  फैले  भ्रष्टाचार
जागे  न  जागे  न  जागे  सोई  है  सरकार

अजब  दिन  आए  रे  भैया ..

पुल  टूटा  पहली  वर्षा  में  नहर  न  देती  पानी
राहत  के  चावल  भी  सड़ियल  किसकी  कारस्तानी
चोर-सिपाही-अफ़सर-तस्कर-डाकू-थानेदार
सब  के  सब  मौसेरे  भाई  इनसे  क्या  दरकार
जागे  न  जागे  न  जागे  सोई  है  सरकार

अजब  दिन  आए  रे  भैया !

राजा  मांगे  शाल-दुशाले  रानी  मांगे  सोना
जनता  भूखी  मांगे  दाना  सबका  अपना  रोना
डिग्री  माथे   पर  चिपकाए  फिरते  हैं  बेकार
बिना  घूस  के  घास  न  मिलती  घोड़े  तक  बेज़ार
जागे  न  जागे  न  जागे  सोई  है  सरकार

अजब  दिन  आए  रे  भैया
अजब  दिन  आए  रे  भैया
अजब  दिन  आए  रे  भैया !

                                                                           ( 1988 )

                                                                     -सुरेश  स्वप्निल 

* नोबेल पुरस्कार-प्राप्त  इटैलियन नाटक-कार डारियो-फ़ो  के विश्व-विख्यात नाटक ' नेकेड किंग ' के 
  श्री सतीश शर्मा द्वारा किये  गए बघेली रूपांतरण ' ठाढ़ दुआरे  नंगा ' के कवि द्वारा निर्देशित मंचन हेतु 
  विशेष रूप से लिखा गया गीत। प्रकाशन हेतु  अनुपलब्ध।

कोई टिप्पणी नहीं: