Google+ Badge

मंगलवार, 2 अप्रैल 2013

यह रक्त है, महाशय !

यह  रक्त  है, महाशय !
शत-प्रतिशत  शुद्ध  और  प्राकृतिक
मानव-रक्त  !

जब  तक  यह  बहता  है  शिराओं  में
केवल  तभी  तक  संवाहक  है  यह
तुम्हारी  सदा-अतृप्त  पूंजीवादी  लिप्सा
और  तथाकथित  सुधारवादी  अवधारणाओं
और  सर्वग्रासी  प्रगति  का !

ओ  पूंजी  के  निरंतर  वर्द्धमान  पर्वतों  के  स्वामियों  !
तुम्हें  स्मरण  नहीं  संभवतः
कि  इसका  यथोचित  मूल्य  भी  चुकाना  होता  है
किसी  भी  अन्य  भौतिक  संसाधन  की  भांति ...!
इसके  स्वर  को  कुचलने  का  विचार  भी  न  लाना
अपने  मस्तिष्क  में
यह  मत  सोचना  कि  तुम्हारे  दमन  के  तमाम  उपकरण
काम  में  आएंगे
तुम्हारी  निर्द्वन्द, निरंकुश  सत्ता  को
शास्वत  बनाए  रखने  में !

यह  रक्त  है,  महाशय
विशुद्ध  मानव-रक्त
इसकी  एक-एक  बूँद  में  समाहित  है
हज़ारों  नाभिकीय  बमों  की  शक्ति

यह  रक्त  है,  महाशय
जब  तक  शिराओं  में  है  तभी  तक  सुरक्षित  हो  तुम
और  तुम्हारे  आर्थिक  साम्राज्य !
शिराओं  से  बाहर  आते  ही
यह  विनाश  की  अकल्पनीय  लीला  भी  रच  सकता  है !
सैकड़ों  ज्वालामुखियों  से  निःसृत
लावे  की  अबाध्य, अबंध्य  नदियों  से  अधिक  प्रलयकारी !

समय  है, संभल  जाओ
अगली  बार
अपनी  सशस्त्र  सेनाओं  को
मनुष्यों  के  समूह  पर  फ़ायर  का  आदेश  देने  से  पहले
सोच  लेना  अवश्य
कि  भूमि  पर  गिरी  प्रत्येक  मानव-रक्त  का  मूल्य  क्या  है
और  चुकाओगे  कैसे ????

                                                                                  ( 2013 )

                                                                            -सुरेश  स्वप्निल 

* नवीनतम, पूर्णतः मौलिक/ अप्रकाशित/ अप्रसारित रचना। प्रकाशन हेतु उपलब्ध।

1 टिप्पणी:

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

गहरे अर्थ लिए हुए पूर्ण लेखनी