Google+ Badge

सोमवार, 15 अप्रैल 2013

पूंजीवाद को गरियाओ मत !

जितने  में  पोस्टर  छपे
उतने  में
घर-घर  में  नज़र  आने  लगती
गौरैया !

यही  कहानी  है  बाघ  की
और  लुप्त  होती  जानवरों
और  वनस्पतियों  की
तमाम  प्रजातियों  की  !

पूंजीवाद  पहले  नष्ट  करता  है
फिर  संरक्षित  करता  है
नमूने  के  लिए
प्रजातियों  को !

इस  नेक  काम  में  कुछ  व्यक्ति
और  संस्थाएं
तो  कमा  ही  लेती  हैं  पुण्य
और  पैसा  भी  !

पूंजीवाद  को  गरियाओ  मत
उसकी  मदद  करो
प्रकृति  को  संग्रहालय  बनाने  में  !

                                                 ( 2013 )

                                          -सुरेश  स्वप्निल 

* नवीनतम/ मौलिक / अप्रकाशित / अप्रसारित रचना। प्रकाशनार्थ उपलब्ध।

1 टिप्पणी:

jyoti khare ने कहा…


चिंतनपरक सार्थक
सुंदर रचना
उत्कृष्ट प्रस्तुति
बधाई

आग्रह है मेरे ब्लॉग में भी सम्मलित हों