Google+ Badge

रविवार, 14 अप्रैल 2013

जो कभी सो नहीं पाते

जो  सो  सकते  हैं  आराम  से
इतने  वाहियात  समय  में
उनसे  कुछ  नहीं  कहना  मुझे

मुझे  उनसे  भी
कुछ  नहीं  कहना
जो  कारण  हैं
दिनों  दिन  मंडराते  युद्ध  के
और  नाभिकीय  हथियारों  के
निर्माता  और  उनके  वित्तीय  मालिकों  के

मुझे  जो  भी  कहना  है
मैं  कहूंगा  उनसे
जो  कभी  सो  नहीं  पाते
अफ़ग़ानिस्तान  से  ज़ाम्बिया  तक  फैले
पूँजी  के  अभागे  शिकारों  से

मुझे  कहना  है  महमूद  अहमदीनेजाद  से

पीछे  मत  हटना  दोस्तों
इससे  पहले  कि
शत्रु  फिर  एक  नया  ईराक़  गढ़  दे
या  फिर  कोई  इज़राइल  तैयार  कर  दे
साबित  करना  ही  होगा
कि  ज़िंदा  हैं  हम
अपने  अस्तित्व  की  सुरक्षा  को
हर  तरह  से  चाक-चौबंद !

किसी  न  किसी  को  तो
मिटना  ही  होगा
मनुष्यता  के  सबसे  बड़े  शत्रुओं  को
या  मनुष्यता  को !

                                                 ( 2013 )

                                         -सुरेश  स्वप्निल 

* नवीनतम/ मौलिक/ अप्रकाशित/ अप्रसारित रचना। प्रकाशन हेतु उपलब्ध।

                                                      

कोई टिप्पणी नहीं: