Google+ Badge

शनिवार, 13 अप्रैल 2013

सिर्फ़ एक कोशिश ..

चलो,  एक  और  कोशिश
करके  देखते  हैं
ज़िंदा  रहने  की
इसी  दुनिया,  इसी  देश
और  इसी  शहर  में  !

करते  हैं  कोशिश
अपनी  खाने, सोने, पहनने,
पढ़ने-लिखने  और  बात-बात  पर
असंतुष्ट  होने  की  आदत
बदल  डालने  की

कोशिश  करते  हैं
दिन  पर  दिन  बढ़ती  मंहगाई  से
तालमेल  बैठाने  की
और  सब-कुछ  को
नियति  मान  कर  चुपचाप
स्वीकार  कर  लेने  की

या
सिर्फ़  एक  कोशिश  करते  हैं
अपनी  आवाज़  को
इतना  बुलंद  बनाने  की
कि  मनुष्य-विरोधी  व्यवस्थाओं  के  सूत्रधारों  के
कान  के  परदे  फटने  लगें
हमारे  एक-एक  शब्द  से

दुनिया  बदलनी  है
तो  अपने  को  बदलने  की  शुरुआत
करनी  ही  होगी।
                                                                 ( 2013 )

                                                          -सुरेश  स्वप्निल 

* नवीनतम/अप्रकाशित/अप्रसारित/मौलिक रचना। प्रकाशन हेतु उपलब्ध।

1 टिप्पणी:

Rajendra Kumar ने कहा…

बहुत ही सुन्दर प्रेरक प्रस्तुति,आभार.