Google+ Badge

शुक्रवार, 12 अप्रैल 2013

बाज़ार के हवाले...

सदियों  से
एक  ही  खेल  चल  रहा  है
निरंतर ...

जो  डरता  है
उसे  इतना  डराओ
कि  डर  के  मारे  आत्म-हत्या  कर  ले

जिसे  दबाया  जा  सकता  है
उसे  इतना  दबाओ
कि  उसका  स्वाभिमान
चूर-चूर  हो  जाए

जो  असहाय  है
उसे  घेर  लो  हर  ओर  से
और  उसकी  ज़ुबान   काट  लो
कि  पुकार  भी  न  सके  किसी  को
मदद  के  लिए !

जो  डरता  नहीं  है  किसी  से
जिसे  दबाया  नहीं  जा  सकता  किसी  भी  तरह
जो  इतना  असहाय  नहीं  कि  प्रतिकार  न  कर  सके
उसे  खींच  कर  बाहर  ले  आओ  घर  से

और उसे

बाज़ार  के  हवाले  कर  दो  !

                                                                       ( 2013 )

                                                                -सुरेश  स्वप्निल 

* नवीनतम, मौलिक / अप्रकाशित / अप्रसारित रचना। प्रकाशन हेतु उपलब्ध।

2 टिप्‍पणियां:

राजेश उत्‍साही ने कहा…

बेहतर है...

Rajendra Kumar ने कहा…

बहुत ही बेहतरीन प्रस्तुति,आभार.