Google+ Badge

मंगलवार, 16 अप्रैल 2013

एक ग़ज़ल

क्या  करेगा  अब  किसी  का  आदमी
नाम    है    जब    बेबसी  का  आदमी

छल   रहे   हैं   आज   सारे  इस  तरह
हो   नहीं   पाता   किसी   का   आदमी

चक्रव्यूहों    में    उलझ    कर    रास्ता
ढूंढता      है     वापसी     का    आदमी

औपचारिकता      निभाना     शेष    है
बिक  चुका  तो  है  कभी  का   आदमी

आत्महत्या  की    बना  कर  भूमिका
मुन्तज़िर  है    ज़िंदगी  का     आदमी

आदमी     के    वेश   में     हैं    भेड़िये
हाथ  थामे   क्या   किसी  का   आदमी  ?

                                                   ( 1975 )

                                             -सुरेश  स्वप्निल 

* प्रकाशन: दैनिक 'देशबंधु', भोपाल, 1975 एवं  अन्यत्र।

कोई टिप्पणी नहीं: