Google+ Badge

सोमवार, 18 फ़रवरी 2013

सरकार क्या करे ! ! !

ओले  गिरने  थे
गिरे

लोट  गईं  धरती  पर
खड़ी  फ़सलें
पेड़ों  से  पत्ते  झरे

टूट  गए  कच्ची  मढ़इयों  के  खपरैल
चार-छह  लोग  भी  मरे

सरकार  आख़िर  क्या  करे ? !

रोक  दे  पानी  का  भाप  में  बदलना
हवा  और  आंधी  का  बेरोक-टोक  चलना
वायु-धाराओं  का  बर्फ़  बन  कर  जमना
ओलों  का  धरती  पर  बरसना ? ? ?

असंभव  है, श्रीमान !
सरकार  के  लिए  ऐसा  कुछ  भी  करना ...

जिन्हें  गिरना  था,  गिरे
जिन्हें  झरना  था,  झरे
जिन्हें  मरना  था,  मरे
सरकार  क्या  करे ! ! !

                                                        ( 1983 )

                                                  -सुरेश  स्वप्निल 

*प्रकाशन: आकंठ, होशंगाबाद एवं अन्यत्र। पुनः प्रकाशन  हेतु  उपलब्ध।

कोई टिप्पणी नहीं: