Google+ Badge

मंगलवार, 19 फ़रवरी 2013

दुनिया की बेहतरी के लिए

लड़कियां  उतरें  ज़मीन  में
अपनी  आज़ादी
और  दुनिया  की  बेहतरी  के  लिए

लड़कियां  अंकुरित  हों
बढ़ें
फलें-फूलें
निरोग, सुंदर  और  हंसमुख
गेहूं  की  बालियों-जैसी

लड़कियां  बढ़ें  आगे
सागर, मैदान, पर्वतों  को  लांघती
अन्न-गंध  बन
फैलें  दुनिया  के  कोने-कोने  में
हारे-टूटे  हुओं  में
प्राण  फूंकती

दुनिया  को  मनचाहा  आकार  देने
लड़कियां  उठ  रही  हैं  आंधी  बन  कर
वह  देखो
रख  दिए  उन्होंने  पांव
खेत  के  भीतर !

                                                   ( 1 9 8 7 )
                                            -
                                             -सुरेश  स्वप्निल 

* प्रकाशन: संभवतः, 'वर्तमान साहित्य'. पुनः प्रकाशन हेतु  उपलब्ध।

कोई टिप्पणी नहीं: