Google+ Badge

मंगलवार, 22 जनवरी 2013

आओ, अपनी रोटी छीनें

आओ,   अपनी    रोटी    छीनें

यहाँ   बाघ   हैं,    वहां   भेड़िये
सारे   क़ातिल,    सारे    वहशी
सबके   मुंह   में   ख़ून   लगा   है

आओ,     अपनी     रोटी     छीनें

हम   छिटपुट  हैं,  और  निहत्थे
वे    ताक़तवर ,    और    इकट्ठे
वे  मुट्ठी  भर , हम  अगणित हैं

आओ,     अपनी     रोटी    छीनें

नाख़ूनों     पर     धार     चढ़ाओ
खुली  जंग  का   वक़्त  आ गया
साथी ,  मिल   कर   धावा  बोलें

आओ,     अपनी    रोटी    छीनें।

                                        (1981)

                          -सुरेश  स्वप्निल 

प्रकाशन: दैनिक 'देशबंधु', भोपाल , 1981

कोई टिप्पणी नहीं: