Google+ Badge

बुधवार, 23 जनवरी 2013

मछुए

सागर  की  चौड़ी  छाती  पर
सूरज  की  धुंधलाती  आभा
तैर  रही  है।
लौट   रहे  हैं  पंछी  घर  को
धीरे-धीरे ......

दर्पण-जैसे  शांत  नीर  को
चीर  रही  हैं  दो  नौकाएं
उन  मछुओं  की
जिनको  मछली  नहीं  मिली  है
कल-परसों  से।

वे  अपनी  झोपड़-पट्टी  में
आज  लौट  कर  नहीं  आएंगे
ख़ाली  हाथों।

-हो  सकता  है  आज  उठे
तूफ़ान  भयंकर
मौसम  के  विभाग  से
ऐसी  ख़बर  मिली  है।

                                             (1977)

                               -सुरेश  स्वप्निल

कोई टिप्पणी नहीं: