Google+ Badge

शुक्रवार, 14 फ़रवरी 2014

मौसम की अनुशासनहीनता ...

सूर्य  ठगा-सा  रह  जाता  है
हर  बार
जब  मौसम  इन्कार  कर  देता  है
बदलने  से  !

आख़िर  हंसी-मज़ाक़   है  क्या
बार-बार  गर्म  कपड़े  तह  कर  रखना
और  फिर निकालना ...

जो  भी  हो,
यह  लगभग  तय  होता  जा  रहा  है
कि  मौसम
अनुशासन-विहीन  हो  गया  है  आजकल
अब  तो  वह
भू-गतिकी  के  नियम  भी  नहीं  मानता  !

सच  कहा  जाए
तो  अशुभ-संकेत  हैं  ये  लक्षण
पृथ्वी  के  स्वास्थ्य  के  लिए 
नितांत  घातक  !

सूर्य  की  सत्ता  का  निर्बल  होना
हमारे  पक्ष  में  नहीं  है
मगर  मौसम  की  अनुशासनहीनता  का  कारण
कौन  है  और
हमारे  सिवा ???

                                                                              ( 2014 )

                                                                       -सुरेश  स्वप्निल 

...

कोई टिप्पणी नहीं: