Google+ Badge

सोमवार, 16 सितंबर 2013

बबूल मत बोना !

लोग  चुन  लें
विकल्प  हैं  सामने

एक  ओर  शांति  है,  समृद्धि  है
भावी  पीढ़ियों  के  लिए
संभावनाएं  हैं.…
दूसरी  ओर  हिंसा  है, मार-काट  है
असभ्यता  और  बर्बरता  के  जंगल  हैं
पुनः  मनुष्य  से  पशु  बनने  की
शताब्दियों  लम्बी  प्रक्रिया  है….

हमारे  पास  समय  है
दोनों  विकल्पों  के  बारे  में
सोचने-समझने
और  निर्णय  लेने  का

कोई  जल्दी  नहीं  है  अभी
किंतु  एक  भी  ग़लती  पड़  सकती  है
बहुत  भारी
कई-कई  पीढ़ियों  के  लिए

बस  इतना  ही  करना
कि  समय  के  मार्ग  में
बबूल  मत  बोना  !

                                                       ( 2013 )

                                               -सुरेश  स्वप्निल 

.

1 टिप्पणी:

अभिषेक कुमार झा अभी ने कहा…


अनमोल / बहुत ही सुन्दर