Google+ Badge

शनिवार, 14 सितंबर 2013

बहुत लम्बी कविता …

शून्य
शून्य
शून्य….

यही  मेरी  नियति  है
मैं  हिंदी  हूं
तुम्हारी  मातृ-भाषा  !

                                        ( 2013 )

                                  -सुरेश  स्वप्निल 


कोई टिप्पणी नहीं: