Google+ Badge

बुधवार, 15 मई 2013

हम/ चल रहे हैं ...

हम/ चल  रहे  हैं
चलते  जा  रहे  हैं
बावजूद  इसके/ कि
हमारे  शरीर  थक  गए  हैं
और  मन/  हार  गए  हैं !

घिसटना/ लंगड़ा  कर  चलना
या/  चलने  की  सिर्फ़-कोशिश  भर  कर  पाना
क्या  सचमुच/  कोई  अर्थ  रखता  है ?
शायद  हां .../  या  शायद  नहीं ...
यह  सोचना/  या  सोचने  की  इच्छा  तक/  किए  बिना
हम  चल  रहे  हैं/  चलते  जा  रहे  हैं/  बावजूद  इसके/  कि
हमारे  शरीर  थक  गए  हैं/  और  मन/  हार  गए  हैं !

शायद/  पाण्डवों  का  महाप्रस्थान  भी/  कुछ  ऐसा  ही  रहा  होगा !
भीम,  अर्जुन,  नकुल,  सहदेव/  और  अबला  द्रौपदी
सबके-सब/  मार्ग-पतित
और  वह  एक मात्र  स्वर्गारोही - युधिष्ठिर !
और  उसका  सहयात्री  वह  श्वान !

अपने  आपको/  युधिष्ठिर  ( या  कहो  कि  उसका  श्वान  ही )
सिद्ध  करने  के  प्रयास  में
ख़ून-रिसते  तलुए/  और  कांटे-चुभे  पांव  लिए
हम  चल  रहे  हैं/  चलते  जा  रहे  हैं/  बावजूद  इसके/  कि /
हमारे  शरीर  थक  गए  हैं/  और  मन ....हार  गए  हैं  !

                                                                               ( 1976 )

                                                                         -सुरेश  स्वप्निल 

*प्रकाशन: 'देशबंधु', भोपाल, 1976 एवं  'अंतर्यात्रा', 1983। पुनः प्रकाशन हेतु उपलब्ध।

1 टिप्पणी:

Rajendra Kumar ने कहा…

जब तक है जान बढते रहें...बेहतरीन प्रस्तुति.