Google+ Badge

मंगलवार, 26 मार्च 2013

त्यौहार देख कर डर लगता है !

रंगों  की  बौछार  देख  कर  डर  लगता  है
व्यर्थ  गई  जल-धार  देख  कर  डर  लगता  है

पीने  के  पानी  से    होली     खेल  रहे  हैं
संतों  के  दरबार  देख  कर  डर  लगता  है

बूंद-बूंद  को  तरस   रहे  हैं  कंठ  करोड़ों
पानी  का  व्यापार  देख  कर  डर  लगता  है

धरती  के  चप्पे-चप्पे  पर  पड़ी  दरारें
अंधों  की  सरकार  देख  कर  डर लगता है

सब-कुछ  गिरवी  है  पूंजी-पतियों  के  हाथों
अब  तो  हर  त्यौहार  देख  कर  डर  लगता  है !

                                                                  ( 2013 )

                                                           -सुरेश  स्वप्निल

* नवीनतम/मौलिक/अप्रकाशित/अप्रसारित रचना।

1 टिप्पणी:

Rajendra Kumar ने कहा…

बहुत ही बेहतरीन प्रस्तुति सुरेश जी,होली की हार्दिक शुभकामनाएँ.