Google+ Badge

शनिवार, 23 मार्च 2013

मौन है फागुन बहुत

मौन  है  फागुन  बहुत
इस  साल
जाने  क्या  हुआ  है
फाग  के  अब  सुर  नहीं  मिलते
बयारों  में

कोई  तो  होगा  सबब
शायद
किसी  ने  फिर  किया  विश्वास
झूठे  प्यार  पर
या, दर्द  जागा
फिर  किसी  विरही  हृदय  में

वसंतों  में
किसी  का  प्यार  न  यूं  चोट  खाए
मीत  मेरे
प्रीत  के  प्यासे  सभी  मन  एक  हैं
वादा  करे  कोई  किसी  से, तोड़  दे
वह  दर्द  उसका , सिर्फ़  उसका  ही  नहीं
जिसका  हृदय  घायल  हुआ  है ....

प्रीत  का  उपवन  अगर  ख़ामोश  है
ओ  मीत  मेरे
आओ, इन  टूटे  दिलों  को  जोड़  दें
हम  बांट  दें  अपने  हृदय  की  प्रीत  सबको !

                                                             ( 2 मार्च, 1977 )

                                                             -सुरेश  स्वप्निल 

प्रकाशन: 'देशबंधु', भोपाल, मार्च, 1977

1 टिप्पणी:

शालिनी कौशिक ने कहा…

मौन है फागुन बहुत
इस साल
जाने क्या हुआ है
फाग के अब सुर नहीं मिलते
बयारों में ( 2 मार्च, 1977 )
ye to bahut pahle kee hai kya tab bhi holi ke yahi hal the jo aaj hain ?happy holi to you.
.बहुत सुन्दर भावनात्मक प्रस्तुति आभार अमिताभ बच्चन :सामाजिक और फ़िल्मी शानदार शख्सियत .महिला ब्लोगर्स के लिए एक नयी सौगात आज ही जुड़ें WOMAN ABOUT MAN