Google+ Badge

गुरुवार, 28 फ़रवरी 2013

कुछ और छोटी कविताएं

                             सम  तक  पहुँचने  में 

                           ता   थेई 
                           त्राम  थेई 
                           तिक  धा  तिक  तिक  थेई  
                           तिक  धा  तिक  तिक  थेई 
                           तिक  धा  तिक  तिक  थेई 
                           सम तक पहुंचने  में 
                           ख़ासी  मेहनत 
                           और  देर  लगती  है ! 
                                                           ( 1983 )
                             रात  बिताने  के  लिए 
                        मेरी  बीड़ी 
                        बुझ  रही  है 
                        और  सुबह  बहुत  दूर  है 

                        अब  तुम्हें 
                        रात  बिताने  के  लिए 
                        अलाव  जलाना  चाहिए।
                                                          ( 1983 )

                      छिपकलियां 
                         छिपकलियां  रेंग  रही  हैं 
                      धीरे  धीरे 

                      वे  
                      मकड़ी  का  जाला 
                      तोड़  देंगी 
                      एक  दिन ! 
                                                    ( 1983 )
                               
                                           -सुरेश  स्वप्निल 

* प्रकाशन: 'नव भारत',  ( रविवासरीय ) रायपुर, 'आवेग', रतलाम एवं अन्यत्र। पुनः प्रकाशन हेतु उपलब्ध।
 

 

                         

                            

                         

             

कोई टिप्पणी नहीं: