Google+ Badge

शुक्रवार, 1 फ़रवरी 2013

जोंक

तुमने  जोंक  को  ज़िन्दा  छोड़ा
वह  बढ़  कर  सांप  बन  गई

तुमने  सांप  की  पूजा  की
वह  आदम ख़ोर  बाघ  में  बदल  गया

तुम  बाघ  से  डरते  रहे
वह  विशालकाय  व्हेल  हो  गया

व्हेल  के  पेट  के  अँधेरे  तहख़ानों  में
जीवन  की  किरण  के  लिए
भटकते  हुए
क्या  तुम   नहीं  सोचते
कि  अच्छा  होता
यदि  जोंक  को  जोंक  रहते
पांव  से  कुचल  देते ? ? ?

                                              ( 1983 )

                                      - सुरेश  स्वप्निल 

*अब  तक  अप्रकाशित/ अप्रसारित रचना 

कोई टिप्पणी नहीं: