Google+ Badge

शुक्रवार, 1 फ़रवरी 2013

झूलाघर

सरकारी  कर्मचारियों  की  बस्ती  के  बीच
चलता  है  झूलाघर

सरकार  के  नेक  इरादों  के  अनुरूप
पलते  हैं  देश  के  भावी  नागरिक
दो  शिक्षिकाओं
और  एक  आया  के  भरोसे  पर

सरकार  चाहती  है  कि
झूलाघर  में  खिलौने  हों
किताबें  भी  हों
और  हो  एक  समय  के  नाश्ते  का  इंतज़ाम

इतने  छोटे से  काम  के  लिए
हमारी  भली  सरकार
देती  है  हर  माह
पांच  सौ  तिरासी  रुपये  का  अनुदान

शिक्षिकाएं  पैदल  नहीं,
टेम्पो  से  आती  हैं
धुली  हुई  साड़ियाँ  पहनती  हैं
और  थोड़े  बड़े  बच्चों  को
हिंदी-अंग्रेज़ी  की  कविताएं  सिखाती  हैं

आया  बच्चों  को  झूला  झुलाती  है
बोतल  से  दूध  पिलाती  है
और  छोटे  बच्चों  की  छिच्छी  धुला  कर
पुतड़ियां  भी  धोती  है
उसे  दोपहर  का  नाश्ता  बना  कर
बर्तन  भी  धोने  होते  हैं

बच्चों  की  माँएं  शाम  को  आती  हैं
अपने  दफ़्तरों  से
बड़े  बाबू  के  तानों  और  साहब  की  झिड़कियों  से
भिन्नाती  हुई
वे  अपनी  सारी  खीझ  और  थकान
झूलाघर  पर  उतारती  हैं

आया  और  शिक्षिकाएं
भरसक  कोशिश  करती  हैं
मुस्कुराने  की
लेकिन  बच्चों  की  माँएं
चल  देती  हैं  मुंह  बिचका  कर 

बरसों  से  इसी  तरह  चलता  आया  है
इसी  तरह  चलता  रहेगा  झूलाघर।

                                                           ( 1983 )

                                                     -सुरेश  स्वप्निल 

* अब तक  अप्रकाशित/अप्रसारित  रचना 

कोई टिप्पणी नहीं: