Google+ Badge

रविवार, 20 जनवरी 2013

सूरज कितनी दूर होगा उन हाथों से ?

एक  सूरज  है / लिपटा  हुआ अँधेरे  में /
आकाश  पर / बादलों  के  बीच
और  दो  हाथ हैं / अपनी  नस-नस  को  झनझनाते  हुए /
और  सभी  तंतुओं  की / सम्मिलित  शक्ति  को /
अँधेरे  के  विरुद्ध / सहेजते  हुए !

और, एक  दलदल  है / पांवों  के ठीक  नीचे ....

पांव  धंसते  जाते  हैं / निरंतर /
दलदली  कीचड़  में  / और  हाथ / उठते  जाते  हैं /
अँधेरा  हटाते / सूरज  की  ओर !

ज़रा  देखो / और  बताओ / कि  सूरज /
कितनी  दूर  होगा /
उन  हाथों  से ?

                                                                           ( 1979 )

                                                             -सुरेश  स्वप्निल

कोई टिप्पणी नहीं: