Google+ Badge

शनिवार, 15 अगस्त 2015

रख ले, भैये ! यह आज़ादी

रख  ले,  भैये !
यह  आज़ादी  तू  ही  रख  ले

लूट-मार  कर  खाने  वाली
सब  का  हक़्क़  दबाने वाली
सब  का  गला  काटने  वाली
हर  आज़ादी 
तू  ही  रख  ले !

लाल  क़िले  के  ऊपर  चढ़  जा
हाथ  उठा  कर
खुल  कर  चिल्ला 
जितना  झूठ  बोल  सकता  है
ज़ोर-ज़ोर  से  बोल  आज  सब
तेरा  दिन  है !

हमको  ऐसी  आज़ादी  तो 
नहीं  चाहिए
आटा-दाल,  सब्ज़ियां  ग़ायब
हर  ग़रीब  की  थाली  ख़ाली
हर  किसान  के  माथे  पर
पड़  रही  लकीरें
जाने  कब  आ  जाए  महाजन
जाने  कब  बिक  जाए  खेत-घर !
हर  अमीर  को  खुली  छूट  हो
सारा  काला-पीला  जायज़ !

जाने  किसकी  है  आज़ादी
जाने  कैसी  यह  आज़ादी

रख  ले,  भैये ! 
यह  आज़ादी  तू  ही  रख  ले
अपनी  हम  ख़ुद  ले  आएंगे
लड़  कर, भिड़ कर 
जैसे  भी  हो !

रख  ले,  भैये ! यह  आज़ादी
जनता  की  छाती  पर  चढ़  कर
भाषण  मत  दे !

                                                                          (2015)

                                                                  -सुरेश  स्वप्निल 

... 

                                                                           

कोई टिप्पणी नहीं: