Google+ Badge

गुरुवार, 6 नवंबर 2014

हरसिंगार: दो कविताएं

हरसिंगार : एक
ठीक   नहीं
मन  को  हरसिंगार
बना  लेना

सारी  संवेदनाएं
झर  जाती  हैं
धीरे-धीरे

और  तुम्हें
पता  भी  नहीं
चलता  कभी  !

हरसिंगार: दो 

क्या  फ़ायदा 
हरसिंगार  होने  से 
अब  यहां

लोग  अब
दुआ  मांगने  भी
नहीं  आते

कोई  आंचल
नहीं  फैलाता  अब
सुंदरता  बटोरने  !

                                                              (2014)

                                                    -सुरेश  स्वप्निल

...

कोई टिप्पणी नहीं: