Google+ Badge

शुक्रवार, 20 जून 2014

तब मेरी दंतकथाएं

आप  चाहें
तो  जुबां  काट  दें  मेरी
मगर  चुप  नहीं  रहूंगा  मैं

ज़ुबां  कट  गई
तो  मैं 
अपनी  अंगुलियों  के
इशारों  से  कहूंगा
लिख-लिख  कर
आसमान  सर  पर  उठा  लूंगा
तब  क्या  करेंगे  आप  ?

आप  चाहें  तो
मेरी  अंगुलियां  भी  काट  दें
तब  मैं 
अपनी  निगाहों  से  बात  करूंगा
वह  शायद  आपको
बहुत  भारी  पड़ेगा

आप  चाहें  तो  मेरे
सारे  अंग  छिन्न-भिन्न  कर  दें
मगर  तब  भी
मैं  संवाद  का
कोई  न  कोई   ज़रिया
ढूंढ  ही  लूंगा

मुझे  मौन  करने  का
एक  ही  रास्ता  है  आपके  पास
मेरी  हत्या  कर  देना …

मगर 
तब  मेरी  दंतकथाएं
पीछा  नहीं  छोड़ेंगी  आपका
सात  जन्म  तक
पीढ़ी  दर  पीढ़ी  !

                                                       (2014)

                                                -सुरेश  स्वप्निल

1 टिप्पणी:

Smita Singh ने कहा…

बेहद सुन्दर। मन को छू गई आपकी रचना