Google+ Badge

मंगलवार, 8 अप्रैल 2014

ख़तरनाक प्रयोग ...

कुछ  बातें 
कुछ  चीज़ें 
कुछ  सिद्धान्त 
कभी  नहीं  बदलते
मसलन,  कुत्ते  की  पूंछ
बंदर  की  गुलाटियां
सियारों  की  हुआं-हुआं  

मसलन,  ख़ाकी  नेकर 
और  काली  टोपियों  का  चरित्र

किसी  नरभक्षी  अहंकारी  की  आदतें
तो
कभी  भी  नहीं  बदल  सकतीं
किसी  भी  मूल्य  पर  !

जब  आप  सांप  पर  विश्वास  करते  हैं
कि  वह 
नहीं  डसेगा  आपको
ठीक  उसी  समय  वह 
तोड़  देता  है  आपका  विश्वास ...

आख़िर  क्यों  करते  हैं  आप
इतने  ख़तरनाक  प्रयोग 
बार-बार  ?

                                                               (2014)

                                                        -सुरेश  स्वप्निल

....

कोई टिप्पणी नहीं: