Google+ Badge

रविवार, 20 अप्रैल 2014

जमी हुई धूल

क्या  होगा 
अबकी  बार ?
कोई  है  तैयार
यह  सुनने,  समझने 
और  मानने  को
कि  सब  प्रयास  हो जाएंगे 
बेकार
पिछली  बार  की ही  भांति

परिवर्त्तन  क्या  इस  तरह
इतनी  सरलता  से  हो  जाते  हैं ?

न  कोई  भूकंप  आया
न  ज्वालामुखी  फूटा
न  कोई  ऐसा  जन-उभार
जो  उलट-पलट  दे  सारे  ताज-तख़्त

न  हो  सकी  साफ़
समाज  के  दिल-दिमाग़  पर
शताब्दियों  की  जमी  हुई  धूल 

अगर  कुछ  बदला  भी
तो  सिर्फ़  नज़र  आने  वाले 
कुछ-एक  चेहरे

क्या  इसी  परिवर्त्तन  के  लिए
उतावले  हो  रहे थे  सब ???

                                                                (2014)

                                                       -सुरेश  स्वप्निल

...

कोई टिप्पणी नहीं: