Google+ Badge

बुधवार, 29 जनवरी 2014

क्या देंगे विरासत में ?

शब्द  बचे  ही  कहां  हैं
अब  गांठ  में
कि  ख़र्च  कर  दिए  जाएं
कविताई  में  !

बहुत  मुश्किल  से  सहेजी  थी
यह  पूंजी  पुरखों  ने
और  हमारे  समय  में
पता  नहीं  कहां-कहां  से  चले  आए
इसे  लूटने  वाले …
और  हमारी  पीढ़ी  इतनी  कृतघ्न
कि  ज़रा-से  प्रलोभन  पर
बिकते  रहे,  बेचते  रहे  अपनी  नैतिकता
ईमानदारी,  संस्कार,  विवेक…

किसी  ने  नहीं  सोचा  कभी
कि  क्या  देंगे  विरासत  में
अपने  बाल-बच्चों  को
यदि  शब्द  भी  नहीं  हाथ  में  !

                                                             ( 2014 )

                                                        -सुरेश  स्वप्निल 

कोई टिप्पणी नहीं: