Google+ Badge

शनिवार, 18 जनवरी 2014

सामंत की बकरी ...!

च्च च्च च्च च्च !
बहुत  बुरा  हुआ  सचमुच
सामंत  की  बकरी  मर  गई  !

सामंत  का  दुःख  बहुत  बड़ा  होता  है
शोक  मनाओ,  मूर्खों  !
अपनी  बकरियों  की  चिंता  करो, 
हानि  उठाने  के  लिए  नहीं  होता
सामंत  का  जन्म  !
आज  नहीं  तो  कल
आ  ही  धमकेंगी
सामंत  की  सेनाएं
क्या  पता  किसकी  बकरी  पर
मन  आ  जाए
सैनिकों  का  !

मीडिया  से  सबक़  सीखो

अपने  चेहरों  पर  कालिख़  पोत  लो
मातम  मनाओ
और  अपनी  बकरियों  को
बांध  कर  रखो  बाड़े  में  …

मज़ाक़  नहीं  है
सामंत  की  बकरी  का  मरना  !

                                                         ( 2014 )

                                                    -सुरेश  स्वप्निल

कोई टिप्पणी नहीं: