Google+ Badge

शुक्रवार, 3 जनवरी 2014

नक़ली प्रधानमंत्री !

उफ़ ! कितना-कुछ  नक़ली
दिखाई  देने  लगा  है
आजकल  !


नक़ली    नायक
नक़ली  समर्थक
नक़ली  देश
नक़ली  लोकतंत्र 
नक़ली  चुनाव


नक़ली  लाल  क़िला
नक़ली  संसद
नक़ली सरकार
नक़ली  प्रधानमंत्री  !

तुम्हारी  झाड़ू  कहां  है ?
आओ,  मिल  कर  साफ़  करें
सारा  नक़ली  कचरा  !

                                                       ( 2014 )

                                               -सुरेश  स्वप्निल 

  …

कोई टिप्पणी नहीं: