Google+ Badge

मंगलवार, 24 दिसंबर 2013

गिद्ध लौट आए हैं : तीन

               । तीन।
गिद्ध  लौट  आए  हैं
इस  सूचना  और  आशा  पर
कि  फिर  एक  बार
कोई  रक्त-पिपासु,  कोई  नर-पिशाच
उतर  आया  है
भारत  की  महान  युद्ध-प्रेमी  धरा  पर
फिर  दोहराया  जाए  संभवतः
कोई  कलिंग,  कोई  कुरुक्षेत्र  …

आपका  क्या  विचार  है ?
जीतेगी  मनुष्यता
या  जीतेंगे  नर-पिशाच ??? 

युद्ध  बहुत  कठिन  है  इस  बार
मनुष्यता  के  लिए
जीत  और  हार  दोनों  ही  स्थितियों  में
मानेंगे  नहीं  नर-पिशाच
संभव  है,  युद्ध  के  पूर्व  ही
गिरने  लगें  शव
निर्दोष  मनुष्यों  के …
मनुष्यता  विजयी  हो  तो  भी
हार  की  खीझ  भी  पर्याप्त  है
पृथ्वी  को  रक्त-रंजित  करने  के  लिए
और  यदि  हार  गए  मनुष्य
नर-पिशाच  की  सेनाओं  से…

कहते  हैं,  गिद्ध  बहुत  पहले  ही  जान  लेते  हैं
आगामी  रक्त-पात  का  समय…

हां,  गिद्ध  लौट  आए  हैं  फिर  एक  बार
अभूतपूर्व  रक्त-पात  की  संभावनाओं  के  मद्दे-नज़र  ....

                                                                                ( 2013 )
                                                                  
                                                                         -सुरेश  स्वप्निल

..

1 टिप्पणी:

देवदत्त प्रसून ने कहा…

मित्र! आज 'क्रिसमस-दिवस' पर शुभ कामनाएं,! सब को सेंटा क्लाज सी उदारता दे और ईसा मसीह सी 'प्रेम-शक्ति'!
व्यंग्य की गहराई सराहनीय है|मानवता का ह्रास सचमुच चिन्ता का विषय है !!