Google+ Badge

मंगलवार, 17 दिसंबर 2013

न्याय और अन्याय !

शोर  जब  जनहित  में  हो
तो  अपराध  नहीं  होता
जनहित  में  वस्तुत:  क्रांति  भी
अपराध  नहीं  होती
यहां  तक  कि  जन-विरोधी  शासक-वर्ग  को
नेस्त-नाबूद  कर  देना  भी …

जब  शासक-वर्ग  जनहित  के  विरुद्ध  हो
तो  दंड-संहिताएं  बदल  दी  जानी  चाहिए
बदल  दिए  जाने  चाहिए
न्यायाधीश  और  न्यायालय

न्याय  यदि  पीड़ित  को  स्वीकार  न  हो
तो  न्याय  कैसा ?

सन्दर्भों  से  परे
न्याय  और  अन्याय
हो  सकता  है
समानार्थक  लगें

किन्तु  समय-विशेष  पर
कौन  तय  करेगा
न्याय  और  अन्याय  की
परिभाषाएं ?

                                                 ( 2013 )
                             
                                          -सुरेश  स्वप्निल

..

कोई टिप्पणी नहीं: