Google+ Badge

सोमवार, 25 नवंबर 2013

झूठ के दम पर ...!

इतिहास
भूलने  की  चीज़  नहीं  होती
जब  तक  कोई  राष्ट्र
लज्जित  न  हो  अपने  अतीत  पर  !

ज़िंदा  राष्ट्र
नए  इतिहास  गढ़ते  हैं
अतीत  से  लज्जित  हुए  बिना
वर्त्तमान  से  मुंह  छिपाए  बिना
भविष्य  की  अनिश्चितता  से
डरे  बिना !

झूठ  के  दम  पर
न  राष्ट्र  बनते  हैं
न  संस्कृति

मिथक  नहीं
अध्याय  बनो
नए  इतिहास  का !

                                                  (2013)

                                            -सुरेश  स्वप्निल 

.

कोई टिप्पणी नहीं: