Google+ Badge

गुरुवार, 21 नवंबर 2013

सारा देश श्मशान ...!

यदि  जनता  के  मन  को
भांप  पाना 
इतना  आसान  होता
तो  कोई  भी  सरकार  कभी
सत्ता  से  बाहर  न  होती !

यदि  जनता  नृशंस  हत्यारों  के  इरादों  से
परिचित  न  होती
तो  सारा  देश
श्मशान  बन  गया  होता

यदि  जनता  के  ऊपर  राज  करने  का  सपना
देखने  वाले
ज़रा-से  मनुष्य  भी  होते
तो  सर-आंखों  पर  न  बिठा  लेती  जनता ?!!!

                                                                     ( 2013 )

                                                              -सुरेश  स्वप्निल 

.

कोई टिप्पणी नहीं: