Google+ Badge

शुक्रवार, 1 नवंबर 2013

जब तक जीवित है संविधान !

'भारत  एक  सार्वभौम, लोकतांत्रिक,
धर्म-निरपेक्ष, समाजवादी  देश है…!'

सुन  रहे  हो
पूंजीवाद  के  झंडाबरदारों ?
ओ  नीली  पगड़ी  वालों,  सुन  रहे  हो ?
'समाजवादी'… 'पूंजीवादी'  नहीं। …

और  तुम  सुन  रहे  हो  या  नहीं
हिटलर  के  चेलों
काली  टोपी  वालों !
'धर्म-निरपेक्ष' … 'हिन्दू  राष्ट्र'  नहीं  !

जब  तक  संविधान  जीवित  है
भारत  का
तब  तक
या  तो  संविधान  का  पालन  करो
या  देश  छोड़  दो !

चार  पूंजीपतियों  के  वोटों  से
नहीं  बनती  सरकार
किसी  भी  लोकतांत्रिक  देश  में
न  ही  कोई  अमरीकी  आने  वाला  है
तुम्हारी  सहायता  को !

ओ  महामूर्खों !
ज़रा  अपनी  स्मरण-शक्ति  को  टटोलो
और  याद  करो
1977, 1996, 2004 को

सरकार  तो
आम  आदमी  ही  बनाएगा
भारत  में
जब  तक  जीवित  है  हमारा  संविधान !

जिसे  मुग़ालता  हो
अपने  महानायकत्व का
वह  आ  जाए  नीचे
यथार्थ  के  धरातल  पर !

                                                                   ( 2013 )

                                                             -सुरेश  स्वप्निल

.

कोई टिप्पणी नहीं: