Google+ Badge

गुरुवार, 17 अक्तूबर 2013

मनुष्य इतना निर्विकार ...!

लोग  सोचते  हैं
कि  कवि
कोई  अन्य  ही  प्राणी  होता  है
किसी  भिन्न  लोक  से  उतरा  हुआ

कि  उसे  न  भूख  लगती  है
न  प्यास
न  ही  उसे  ज़रूरत  होती  है
काम  करने 
या  पैसा  कमाने  की

कि  वह  हर  ऋतु  में
बना  रहता  है
एक  जैसा !

कि  वह  परे  होता  है
हर  दुःख-सुख  से
शोक  में  रोता  नहीं
न  हर्ष  में  हंसता  है

वह  तो  परमहंस  होता  है
कि  जिसे
दैहिक-दैविक-भौतिक  ताप
कभी  नहीं  व्यापते …

कोई  भी  मनुष्य
इतना  निर्विकार  नहीं  होता,  मित्रों !
कवि  भी  नहीं  !

                                                    ( 2013 )

                                              -सुरेश  स्वप्निल 

.

कोई टिप्पणी नहीं: