Google+ Badge

मंगलवार, 3 सितंबर 2013

बदल जाएंगे भूगोल !

फिर  रक्त-पिपासा  बढ़  गई
आदम ख़ोरों  की
फिर  ढूंढ  लिए  गए  निरीह,  बेबस  मनुष्य
नवीनतम  हथियारों  के  परीक्षण  के  लिए
गढ़  लिए  गए  नए  बहाने
शक्ति-प्रदर्शन  के  लिए
फिर  तलाश  लिए  गए
नए  तेल-क्षेत्र 
मुनाफ़ाखोर ख़ोर  व्यापारियों  की  मंशा  के  अनुरूप

दिल्ली  से  दमिश्क  तक
दलालों  के  तथा-कथित  समर्थन  के  दम  पर
कब  तक  सहेंगे  दुनिया  के  ग़रीब  लोग
सुनियोजित,  सु-संगठित   'मानवता  के  रक्षकों'  के  आतंक  ?
 दुखद  समाचार  है  वॉशिंगटन  के  लिए
मौत  की  पूर्व-सूचना  है
अमेरिका  के  चारण-भांडों  के  लिए
कि  इतना  आसान  नहीं  होगा  अब
झूठ  के  दम  पर  किसी  अन्य  ईराक़  को  गढ़ना
इतना  आसान   नहीं  होगा
तेल  के  भावों  को  मनमर्ज़ी  से
चढ़ाना-गिराना….

अबकी  बार 
सिर्फ़  अर्थ-व्यवस्था  ही  नहीं  बदलेगी
बदल  जाएंगे  भूगोल
दिल्ली  से  दमिश्क  तक  !

                                                              ( 2013 )

                                                        -सुरेश  स्वप्निल 

*





कोई टिप्पणी नहीं: