Google+ Badge

शुक्रवार, 7 जून 2013

भेड़िये: तीन लघु कविताएं

भेड़िये : एक 

भेड़िये  को  सौंप  दी  गई  है 
जंगल  की  कमान 

खरगोशों !
सावधान  रहो 
बहुत  सोच-समझ  कर  
निकलना 
मांद  से !

 

भेड़िये : दो 

भेड़ियों  से  कहो 
हुआ-हुआ   न  करें 
अभी  से 

बहुत  दूर  हैं  अभी 
चुनाव !

भेड़िये : तीन

भेड़िये  बहुत  कम  हैं  
संख्या  में
और  भेड़ें  असंख्य 

दस-दस  भेड़ें  काफ़ी  हैं 
एक-एक  भेड़िये  के  लिए 

तो  टूट  पड़ो 
भेड़ों !
देर  किस  बात  की  है  ?

                                             ( 2013 )

                                       -सुरेश  स्वप्निल


1 टिप्पणी:

SP Sudhesh ने कहा…

आप की ये लघु कविताएँ बहुत कुछ कहती हैं । इन का व्यंग्य भी मारक है ।