Google+ Badge

रविवार, 2 जून 2013

फिर सफ़र में...

अंधेरा ! अंधेरा !
अमावस  की  रात !

अपनी  राह  अंधेरे  को  सौंप  कर
थक-हार  कर  बैठा  मुसाफ़िर
खण्डित  विश्वास !

मुसाफ़िर  के  कांधे  पर
मार्मिक  स्पर्श
बर्फ़ीले  हाथ !

यंत्रणा मय  सांसों  की  टकराहट
पास,  फिर  पास ,  और  पास

फिर  उठा  तूफ़ान

मुसाफ़िर  जो  थक  गया  था
मुसाफ़िर  जो  रुक  गया  था
अब  फिर  सफ़र  में  है !

और  वह  अकेला  भी  नहीं

ख़ामोश  सफ़र  ज़ारी  है !

रौशनियों  के  जंगल  से  दूर
गुमसुम  रात  के  अंधेरे  में
दो  साये ....!
मौन  चले  जाते  हैं
हाथों  में  लिए  हाथ  !

उनके  क़दमों  तले  कुचल  कर
सूखे  पत्ते
टूटते  हैं, चिटख़ते हैं

सन्नाटा  बिंध  गया  है

और  मौन,  अवश
कहीं  भाग  जाने  की  हड़बड़ाडाहट  में
विकल  है
अमावस  की  रात  !

                                                                             ( 1976 )

                                                                       -सुरेश  स्वप्निल 

प्रकाशन: 'देशबंधु' भोपाल, 1976 एवं 'अंतर्यात्रा-13', 1983 ।

कोई टिप्पणी नहीं: