Google+ Badge

रविवार, 12 मई 2013

विश्व मातृ-दिवस पर, अम्मां के लिए

मेरे  आस-पास  ही  रहना,  अम्मां  !

जैसे-जैसे बुढ़ा  रहा  हूं ,
तुम्हारी  ज़रूरत  भी बुढ़ा रही  है, अम्मां !

बेहद  कमज़ोर, असहाय  और  बीमार  हो  गया  हूं 
तुम्हारे  बिना 
बहुत  भुलक्कड़  भी 
अब  तो  यह  भी  याद  नहीं  रहता 
कि  तुम  तो  हो  ही  नहीं  संसार  में !

हर  छोटी-बड़ी  बात  पर  याद  आ  जाती  हो  तुम 
सशरीर, जैसे  एकदम  सामने  हो 
अभी  हाल  खींच  लोगी  अपने  पास 
सर  पर  हाथ  फेरोगी 
और  मिट  जाएंगी  मेरी  सारी  तकलीफ़ें 
सारी  ज़रूरतें 
अपने-आप !

ऐसा  जादू  सिर्फ़  तुम  ही  कर  सकती  हो 
अम्मां !
सिर्फ़  तुम  ही  हो  जो  आज  भी  समझ  लेती  हो 
कि  कहां  दर्द  है  मुझे 
और  क्या  दवा  काम  करेगी ?
वह  भी  तब 
जब  तुम  हो  ही  नहीं  संसार  में !

अम्मां,  मुझे  छोड़  कर  मत  जाना  कभी 
भले  ही  स्मृतियों  में  रहो ...

मेरे  आस-पास  ही  रहना,  अम्मां !
तब  भी, जब  मैं  आ  रहा  होऊं  
तुम्हारे पास  !

                                                               ( 2013 )

                                                         -सुरेश  स्वप्निल 

*सद्यः रचित/ अप्रकाशित/ अप्रसारित रचना। प्रकाशन हेतु मात्र  सूचना पर उपलब्ध।

कोई टिप्पणी नहीं: