Google+ Badge

बुधवार, 10 अप्रैल 2013

तीन नन्हीं कविताएं

              1.

आप
किस  दिल  की  बात  करते  हैं  ?

वो, जिसे  दे  के
आप  ही  को  हम
रोज़  जीते  हैं
रोज़  मरते  हैं  !

             2.

छोड़िये  भी,
कहां  की  ले  बैठे  ?

हम  तो  अपने  ही  दिल  से
हैरां  हैं
आप  अपना  भी  हमें  दे  बैठे !

          3.
ख़त्म
हो  जाएगा  सफ़र  अपना

राह  में  रूठ  गए
आप  अगर,
चाक  कर  लेंगे  हम  जिगर  अपना !

                                                  ( 1978 )

                                           -सुरेश  स्वप्निल 

* प्रकाशन: दैनिक 'नव-भारत', रायपुर, रविवासरीय। पुनः प्रकाशन हेतु उपलब्ध।


1 टिप्पणी:

Rajendra Kumar ने कहा…

बहुत ही सुन्दर क्षणिकाएँ,आभार.