Google+ Badge

शुक्रवार, 29 मार्च 2013

जो मारे गए दोनों ओर से

यह  क्या  किया , कॉमरेड ?
इतनी  लाशें ! ! !

अच्छी  तरह  से  देख  लो
उलट-पलट  कर
एक-एक  लाश  का  चेहरा  ग़ौर  से  जांच  लो
चाहो  तो  रक्त  के  नमूने  सहेज  लो
और  सुनिश्चित  होना  है  तो  कुछ-एक
बाल  भी  नोच  लो  सब  लाशों  के
देख  लो  DNA  मिला  कर
क्या  सचमुच  वर्ग-शत्रु  थे  वे
जो  मारे  गए  दोनों  ओर  से
या  वर्ग-द्रोही  या  सिर्फ़
व्यक्ति-शत्रु  ? ! !

कॉमरेड ,
इतनी  अपेक्षा  तो  है  तुमसे
कि  तुम  पुलिस  या  फ़ौज  की  तरह
पेश  न  आओ
अपने  ही  केडर  से ....

बंदूक़ों  की  आंखें  नहीं  होतीं, कॉमरेड  !

हम, जो  शहर  में  हैं
तुम्हारे  सहानुभूतिक
क्या  जवाब  दें  सारी  दुनिया  को
और  अपने-आप  को  ?

कॉमरेड ,
युद्ध  से  इनकार  नहीं
मगर  क्यों
और  किससे  ?

                                                     ( 28 मार्च, 2013 )

                                                       -सुरेश  स्वप्निल 

* छतरा, झारखण्ड में 27 मार्च, 2013 को मारे गए माओवादी सैनिकों के नाम। प्रकाशन हेतु नहीं।



कोई टिप्पणी नहीं: