Google+ Badge

शुक्रवार, 8 फ़रवरी 2013

नये अंकुरों के पहले शिकार

बीज  की  शिनाख़्त  के  लिए
ज़रूरी  है
किसी  किसान  का  मुख़बिर  होना

तुम  चुने  गए
इसलिए  कि  ज़मींदार  की  सेहत  के  लिए
ख़तरनाक  बीज
पहचान  लिए  जाएँ

और  तुमने  अपने  काम  को
ब ख़ूबी  अंजाम  दिया

दरअसल  तुमने  वह  सब  किया
जो  तुम्हारे  वश  में  था
एक  चतुर  काश्तकार  होने  के  नाते
तुमने  संकर  क़िस्में  विकसित  कीं
तुमने  उर्वरक  खोजे
और  बुआई  से  पहले
हर  बार
बीजों  को  कल्चर  किया

क्या  सचमुच
सिर्फ़  ज़मींदार  के  खलिहान
और  सेहत  की  ख़ातिर ?

कितने  मासूम  हो  तुम
बंधुआ  मज़दूर !
क्योंकि  नहीं  जानते  तुम
कि   शिनाख़्त  हो  चुकने  के  बावजूद
ज़मींदार  की  सेहत  के  लिए
ख़तरनाक  बीज
ऊगना  सीख  चुके  हैं !

वक़्त  आ  चुका  है
अब
नये  अंकुरों  के  पहले  शिकार
मुख़बिर होंगे !

                                               ( 1984 )

                                        -सुरेश  स्वप्निल 

* प्रकाशन: अनेक लघु पत्रिकाओं में, 1984 से 1989 के मध्य। पुनः  प्रकाशन हेतु उपलब्ध।



2 टिप्‍पणियां:

Sunil Kumar ने कहा…

सारगर्भित पोस्ट .....

Suresh Swapnil ने कहा…

धन्यवाद, सुनील भाई.