Google+ Badge

बुधवार, 6 फ़रवरी 2013

रामदुलारे की बिटिया

रामदुलारे  की  बिटिया  ने  सोलहवें  में
क़दम  रखा  है। चर्चा  फैली  है  क़स्बे  में।

जाने  कितनी  जोड़ी  आँखें  टहल  रही  हैं
आगे-पीछे। सबकी  सांसें  मचल   रही  हैं।

नेताजी  का  छोटा  बेटा  रोज़  शाम  को
ख़बर सुनाने  आ जाता  है। धनीराम को
ताव  चढ़ा  है। अब  उधार  से  दूर  रहेगा।
रामदुलारा   परेशान   है,  किसे  कहेगा ?

कल  धनिया पर  पहलवान  ने  आँख  चलाई।
बड़ा   दरोग़ा    पूछ   रहा   था, " कहीं   सगाई
की  धनिया  की ?   बड़ी  हो  गई  है    अब  तो
वह!"

क्या  होगा  अब ? रामदुलारे  की आफ़त तो
सभी  जगह  है , कहाँ  जाएगा  ? यहीं  रहेगा
सब  सह  लेगा , कभी  किसी  से  नहीं कहेगा
कुछ भी -

केवल  अपनी  बिटिया  की  शादी  होने  तक ...

                                                                 ( 1982 )

                                                            -सुरेश स्वप्निल 

प्रकाशन : 'अंतर्यात्रा' 13 ( 1983 ) एवं अन्यत्र। पुनः प्रकाशन हेतु उपलब्ध।

कोई टिप्पणी नहीं: