Google+ Badge

सोमवार, 25 फ़रवरी 2013

आइसक्रीम बेचने वाले

कभी-कभी  कितना  सहज  लगता  है
धूप  का  तीख़ा पन
और  घूमते  फिरना
नंगे  पांव
नंगे  सिर ...

सड़क  बेहद  लम्बी  है
पेड़  बहुत  थोड़े
और  फिर  जगह-जगह  रुक  कर
क्यों  बिगाड़ें 
पांवों  की  आदत ?

छांव  महज़  धोखा  है
धूप  एक  कड़वा  सच
न  राह  आसान  है, न  मंज़िल !

जानी-पहचानी  आवाज़ें
सड़क, गली, आंगन , खिडकियां  पार  कर
घुस  आई  हैं  कमरे  में

आइसक्रीम  बेचने  वाले  आए  हैं
पूछो , किसी  को  पानी  चाहिए ?

                                                       ( 1982 )

                                                -सुरेश  स्वप्निल 

* प्रकाशन: 'आकंठ', होशंगाबाद एवं अन्यत्र। पुनः प्रकाशन हेतु उपलब्ध।

कोई टिप्पणी नहीं: