Google+ Badge

शनिवार, 23 फ़रवरी 2013

इतिहास माफ़ नहीं करता ...

जहां  बोया  जाना  था  प्यार
वहां
तुमने  हथियार  बो  दिए !
और  अब 
जबकि  तुम्हारे  चारों  तरफ़
चप्पा-चप्पा  धरती  पर
उग  आई  हैं  संगीनें
तुम्हें  सालता  है
अपने  पांवों  का  नंगा पन ?

काश ! तुमने  देखी  होतीं  तुमने
पराजित  इंसानों  की  भयाक्रांत  आँखें
और  याद  किया  होता
अपना  ही  इतिहास
कि  आदम ख़ोर  जंगल  से
तुम  भी  तो  गुज़रे  थे  कभी !

अपने  हथियारों  की  दोहरी  मार  को  पहचानो
सिर्फ़  दूसरों  की  दीवारें  ही  नहीं
ढह  जाएगा  तुम्हारा -अपना  भी  साम्राज्य

इतिहास  की  छाती  पर  मूंग  मत  दलो
उसने  कभी  किसी  को  नहीं  किया  माफ़ !

                                                                     ( 1984 )

                                                              -सुरेश  स्वप्निल 

* अप्रकाशित / अप्रसारित रचना। प्रकाशन हेतु उपलब्ध।



कोई टिप्पणी नहीं: