Google+ Badge

गुरुवार, 21 फ़रवरी 2013

अपने ही बेटों से ....

फटी  गुदड़िया
ढेर   चिथड़िया
धागे  और  सुई  में
कब  तक  जान  खपाओगी, अम्माँ ?

होंठों  पर  आने  से  पहले  ही
रुक  जाती  राम कहानी 
भर  आता  आँखों  में  पानी

मूड़  झुका  कर
यूँ  ही  कब  तक  बात  उड़ाओगी , अम्माँ ?

अच्छा, लो  यह  सुरमेदानी
चार  रुपैये  की  आई  है
एक  रुपैया  कम  दे  देना
चाहो  तो  यूँ  ही  रख  लेना

अपने  ही  बेटों  से
कब  तक  शान  दिखाओगी, अम्माँ  !

                                                             ( 2 1 दिस . 1 9 8 7 )

                                                                  - सुरेश  स्वप्निल

* उस दौर  की  अंतिम  हिंदी  कविता।  अपनी  अम्माँ, स्व. श्रीमती रतन बाई खड़ग के लिए।
** प्रकाशन: 'वर्त्तमान साहित्य' एवं अन्यत्र। पुनः प्रकाशन हेतु उपलब्ध।

कोई टिप्पणी नहीं: