Google+ Badge

मंगलवार, 12 फ़रवरी 2013

... अन्दर आने से पहले

मुझे  मालूम  था  कि  तुम
भूखे  आओगे/ जहाँ  से  भी  आओ
इसलिए/ मैंने  अपने-आप  को  सजा  लिया  है
चांदी  की  तश्तरी  में
[ कल  तुमने  चीनी  के  सारे  बर्त्तन  तोड़  डाले  थे  न ! ]

एक-एक  कर
उतार  कर  फेंक  दो / मेरे  सारे  कपड़े
और  शुरू  हो  जाओ ....
लेकिन / मुझे  समूचा  खा  चुकने  से  पहले
बता  देना / कि
कैसा  लगा  तुम्हें / मेरे  गोश्त  का  सौंधापन ?

-एक  बात  और
कल  अन्दर  आने  से  पहले
ज़रूर  पढ़  लेना
नई  रेट-लिस्ट !

                                                                              ( 1984 )

                                                                        -सुरेश  स्वप्निल 

* संभवतः अप्रकाशित 


कोई टिप्पणी नहीं: