Google+ Badge

मंगलवार, 29 जनवरी 2013

पतंग लूटते बच्चे

अभी  वे  आएंगे
नंगे  पांव  दौड़ते  हुए
बांसों  पर  टंगी  आँखों  से
आसमान  निहारते-
कटी  हुई  पतंग  के  पीछे-पीछे।

पतंग  लूटते  बच्चे  बहुत  मासूम  हैं।
उन्हें  नहीं  मालूम
कितना  मुश्किल  है
कटी  हुई  पतंग  की  चाल  भांपना।

-पतंग  तितली  नहीं  होती
कि  सिर्फ़
फूलों  पर  बैठे।

रास्ते  के  बीचों-बीच
खड़ा  हुआ  पेड़
और  उसकी  हज़ार  बांहें
आश्वस्त  हैं
पतंग
कहाँ  जाएगी  बच  कर ?

अगर  मैं  पेड़  के  नीचे  खड़ा  हूँ ,
मेरी  नीयत  पर  शंका  मत  करो
मैं  उस  बच्चे  को  पेड़  पर  चढ़ना  सिखाऊंगा
जिसकी  आँखें 
सबसे  ज़्यादा  चमकदार  हैं
और  हाथ .......सबसे  नन्हे  !

                                                       ( 1981 )

                                                 -सुरेश  स्वप्निल 

प्रकाशन: अंतर्यात्रा-13 ( जन ., 1983 );  'साक्षात्कार' ( जुलाई-सितं ., 1984 )

कोई टिप्पणी नहीं: